koi aitraj nahi hai

कोई ऐतराज़ नहीं है बिखरने से मुझको
तुम अगर अपनी बाहों में संभालने की ज़हमत करो….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *