DUSHYANT KUMAR

एक आदत सी बन गई है तू
और आदत कभी नहीं जाती

💛💚💜💓

कैसे आकाश में सूराख़ नहीं हो सकता
एक पत्थर तो तबीअत से उछालो यारो

💛💚💜💓