एक पत्थर तो तबीअत से उछालो यारो

कैसे आकाश में सूराख़ नहीं हो सकता
एक पत्थर तो तबीअत से उछालो यारो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *