मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता

मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *