उसकी चालाकियाँ

उसे लगता था,
उसकी चालाकियाँ मुझे समझ नही आती,
मैं बड़ी ख़ामोशी से देखता रहा उसे,
अपनी नज़रों से गिरते हुए…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *