कुछ तो जीते है जन्नत की तमन्ना लेकर और कुछ तमन्नायें जीना सीखा देतीं हैं

कुछ तो जीते है जन्नत की तमन्ना लेकर और कुछ तमन्नायें जीना सीखा देतीं हैं
हम किस तमन्ना के सहारे जिए , जिन्दगी तो रोज एक तमन्ना बढ़ा देती है