मुझे कहना पड़े तो क्या फ़ायदा

मुझे कहना पड़े तो क्या फ़ायदा,
इन्तज़ार तो उस दिन का है जब तू मेरी ख़ामोशी पढ़ ले ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *